What-Ifs

टूटते कांच का शोर चुभता है जेहन में
जो दिलों का टूटना सुनता तो क्या होता
...
खपा दिमाग कल के बारे में परेशां हैं सब
तक़दीर पहले पता होती तो क्या होता
...
बसे बसाए घर तो उठ गए इक दिन में
ऊपरवाले से सबर उठ जाता तो क्या होता
...
तुमने कसर नहीं छोड़ी थी बदसुलूकी कि
वो बिन बात किये चले जाते तो क्या होता
...
बेकद्री खूब करी हाड़-मॉस की रैन
जो सुबह आँख न खुलती तो क्या होता
...
मर्ज़ हुआ नहीं तो ये हश्र हुआ हरि
जो इश्क़ हो जाता तो क्या होता ....
...